Font by Mehr Nastaliq Web

जीवन पर कविताएँ

जहाँ जीवन को स्वयं कविता

कहा गया हो, कविता में जीवन का उतरना अस्वाभाविक प्रतीति नहीं है। प्रस्तुत चयन में जीवन, जीवनानुभव, जीवन-संबंधी धारणाओं, जीवन की जय-पराजय आदि की अभिव्यक्ति देती कविताओं का संकलन किया गया है।

इतना कुछ था

कुँवर नारायण

आगे जीवन है

अविनाश मिश्र

इसी जन्म में इस जीवन में

केदारनाथ अग्रवाल

एक दिन

अखिलेश सिंह

तो फिर वे लोग कौन हैं?

गुलज़ार हुसैन

जीवन-चक्र

रवि प्रकाश

सौंदर्य

निरंजन श्रोत्रिय

अँधेरे का सौंदर्य-2

घुँघरू परमार

ओ मेरी मृत्यु!

सपना भट्ट

पितृ-स्मृति

आदर्श भूषण

आत्म-मृत्यु

प्रियंका दुबे

आत्मपरिचय

हरिवंशराय बच्चन

यहीं

अहर्निश सागर

लगभग सुखमय!

सुशोभित

दुनियाएँ

प्रदीप्त प्रीत

सेवानिवृत्ति

अविनाश मिश्र

उतना ही असमाप्त

कुँवर नारायण

दिशा

केदारनाथ सिंह

बेघर

सुधांशु फ़िरदौस

चश्मा

राजेंद्र धोड़पकर

मैंने जीवन वरण कर लिया

कृष्ण मुरारी पहारिया

सबसे पहले

हेमंत कुकरेती

उम्र

सारुल बागला

पहले

निशांत कौशिक

जड़ें

राजेंद्र धोड़पकर

जीवनवृक्ष

राधावल्लभ त्रिपाठी

अनुपस्थिति

गार्गी मिश्र

चूका हुआ निशाना

कृष्ण कल्पित

अपना-अपना तरीक़ा

जितेंद्र रामप्रकाश

पालने की हँसी

शैलप्रिया

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए