आत्मा पर दोहे

आत्मा या आत्मन् भारतीय

दर्शन के महत्त्वपूर्ण प्रत्ययों में से एक है। उपनिषदों ने मूलभूत विषय-वस्तु के रूप में इस पर विचार किया है जहाँ इसका अभिप्राय व्यक्ति में अंतर्निहित उस मूलभूत सत् से है जो शाश्वत तत्त्व है और मृत्यु के बाद भी जिसका विनाश नहीं होता। जैन धर्म ने इसे ही ‘जीव’ कहा है जो चेतना का प्रतीक है और अजीव (जड़) से पृथक है। भारतीय काव्यधारा इसके पारंपरिक अर्थों के साथ इसका अर्थ-विस्तार करती हुई आगे बढ़ी है।

सुरति निरति नेता हुआ, मटुकी हुआ शरीर।

दया दधि विचारिये, निकलत घृत तब थीर॥

दरिया (बिहार वाले)

अग्नि कर्म संयोग तें, देह कड़ाही संग।

तेल लिंग दोऊ तपै, शशि आतमा अभंग॥

सुंदरदास
  • संबंधित विषय : देह

देह कृत्य सब करत है, उत्तम मध्य कनिष्ट।

सुंदर साक्षी आतमा, दीसै मांहि प्रविष्ट॥

सुंदरदास
  • संबंधित विषय : देह

सूक्षम देह स्थूल कौ, मिल्यौ करत संयोग।

सुंदर न्यारौ आतमा, सुख-दुख इनकौ भोग॥

सुंदरदास

हलन चलन सब देह कौ, आतम सत्ता होइ।

सुंदर साक्षी आतमा, कर्म लागै कोइ॥

सुंदरदास

संबंधित विषय