पानी पर उद्धरण

पानी या जल जीवन के अस्तित्व

से जुड़ा द्रव है। यह पाँच मूल तत्त्वों में से एक है। प्रस्तुत चयन में संकलित कविताओं में जल के विभिन्न भावों की प्रमुखता से अभिव्यक्ति हुई है।

जल विप्लव है।

गजानन माधव मुक्तिबोध

मन में पानी के अनेक संस्मरण हैं।

रघुवीर सहाय

पानी का स्वरूप ही शीतल है।

रघुवीर सहाय

पानी एक ऐसी चीज़ है जिसे बहुत देर तक बिना बोले भी देखा जा सकता है।

सिद्धेश्वर सिंह

वाष्पीकरण एक सहज क्रिया है। यह सिर्फ़ द्रवों पर ही लागू हो ऐसी कोई अनिवार्यता नहीं।

सिद्धेश्वर सिंह

जल समस्त प्रकृति की प्रेरक शक्ति है।

लियोनार्डो दा विंची

संबंधित विषय

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए