प्रकाश पर कविताएँ

प्रकाश का संबंध हमारे

दृश्य संसार से है। प्रकाश अंधकार के प्रतिरोध की प्रतीति भी है। इस चयन में प्रकाश एवं उसके विभिन्न शब्द और अर्थ पर्यायों के साथ अभिव्यक्त कविताओं का संकलन किया गया है।

जुगनू

गीत चतुर्वेदी

पहाड़ पर लालटेन

मंगलेश डबराल

टॉर्च

मंगलेश डबराल

आओ फिर से दिया जलाएँ

अटल बिहारी वाजपेयी

दीवट का दिया

केशव तिवारी

ठिठुरते लैंप पोस्ट

अदनान कफ़ील दरवेश

जलाते चलो ये दीए स्नेह भर-भर

द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

ठहरी नदी

प्रकाश

उजाले की ओट

अमिताभ चौधरी

रोशनी

नरेश सक्सेना

देवदीपावली

राधावल्लभ त्रिपाठी

सम्मोहित आलोक

यतींद्र मिश्र

बचा प्रकाश

सविता सिंह

सिर्फ़ आलोक ही नहीं

विजय देव नारायण साही

उठो रौशनी करो

गार्गी मिश्र

अँधेरे का अर्थ

वाज़दा ख़ान

अँधेरा और रोशनी

गिरिराज किराडू

लालटेन जलाना

विष्णु खरे

सब सो गए हैं

अखिलेश सिंह

रोशनी, पानी, पेड़

अतुलवीर अरोड़ा

घूर का दिया

केशव शरण

दिए बेचती औरत

प्रेमशंकर शुक्ल

प्रभात

केदारनाथ अग्रवाल

ध्वनि और प्रकाश

योगेंद्र गौतम

दीप

मुकुंद लाठ

असंदिग्ध एक उजाला

भवानीप्रसाद मिश्र

दीप

कन्हैयालाल सेठिया

आलोक

नवीन सागर

रोशनी

मणि मोहन

स्मृतियाँ

राकेश मिश्र

रोशनी

लाल्टू

कुछ तो कहो तुम

वाज़दा ख़ान

टूटी रोशनी

साैमित्र मोहन

लालटेन

अरुण देव

उजाले की पहचान

गोविंद माथुर

यादृच्छिक

मुकुंद लाठ

बेशक होता है

प्रमोद वर्मा

उजाले के पक्ष में

शलभ श्रीराम सिंह

रोशनी

रामजी तिवारी

दीपक

योगेंद्र गौतम
बोलिए