अँधेरा पर कविताएँ

क्रिया

शंख घोष

सब कुछ नहीं अँधेरा

प्रतिभा शतपथी

आलिंगन

दाशरथि

अदालत तले अँधेरा

तृषान्निता

आधी रात

तृषान्निता

पूस की रात

आकांक्षा

आइसोलेशन, एक कमरा

सौम्या सुमन

अँधेरी यात्रा

किशोर कल्पनाकांत

एक शौक़

इंदिरा संत

शाम

आकांक्षा

तिमिर

बी. गोपाल रेड्डी

माचिस खोजते हुए

गुरिंदर सिंह कलसी

अरे, कोई तो...

जगदीश जोषी

वजूद

श्रीधर करुणानिधि

इश्तहार

गुलशन मजीद

कटे-फटे अँधेरे

शोभा अक्षर

इसीलिए

वीरभद्र कार्कीढोली

न हो सिद्धि, साधन तो है

मैथिलीशरण गुप्त

टँगा हुआ समय

द्वारिका उनियाल

लालटेन

कौशल किशोर

सर्वभोग्या/वैश्या

राजीव कुमार तिवारी

मुझे जाना होगा

संजय शांडिल्य

सफ़र

राहुल देहलवी

हौसला

सुधा उपाध्याय

अँधेरा

गोपालकृष्ण रथ

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए