रहस्य

रहस्य, यानी जो सर्वविदित न हो। प्रस्तुत चयन में उन कविताओं को शामिल किया गया है जो विभिन्न प्रसंगों में रहस्य, अचरज, अचंभे या चमत्कार की अभिव्यक्ति करते हैं।

मेरा डर मेरा सच एक आश्चर्य है।

रघुवीर सहाय
  • संबंधित विषय : डर
    और 1 अन्य

हर व्यक्ति एक रहस्य है। वह स्वयं को समझ नहीं पाता। बहुत से लोग रास्ता दिखाते हैं। लेकिन कुछ लोगों को ही रास्ता दिखता है।

श्रीकांत वर्मा

संबंधित विषय