सफलता पर कविताएँ

सफलता-असफलता जीवन-प्रसंगों

से संबद्ध एक प्रमुख विषय है। समाज ने सफलता-असफलता के कई मानदंड तय कर रखे हैं जो इहलौकिक भी हैं और आध्यात्मिक-दार्शनिक भी। कविताओं में भी इस विषय पर पर्याप्त अभिव्यक्तियाँ पाई जाती हैं।

अंतिम ऊँचाई

कुँवर नारायण

अटूट क्रम

कुँवर नारायण

नर हो, न निराश करो मन को

मैथिलीशरण गुप्त

पहाड़ पर चढ़ने के लिए

पद्मजा घोरपड़े

वैसे ही चलना दूभर था

मुकुट बिहारी सरोज

अगर तुम युवा हो

शशिप्रकाश

संतुलन

सौरभ राय

तुम अपने ही पंख सँवारो

कृष्ण मुरारी पहारिया

उड़ान

अंकुर मिश्र

सफल आदमी

भगवत रावत

अंतिम खिलाड़ी

हेमंत कुकरेती

असफलता के मौन क्षणों में

कृष्ण मुरारी पहारिया

या

शैलेय

टाई

हरि मृदुल

उतना ही इंकार

हरि मृदुल

उत्तर का अंतिम अक्षर

मुकुट बिहारी सरोज

पानी

परमेंद्र सिंह

वसंतसेना

श्रीकांत वर्मा

जिस क्षण

पद्मजा घोरपड़े

लपक गई

मुकुंद लाठ

असफलता की पहचान

ऋतु कुमार ऋतु

असफल आदमी

विशाल श्रीवास्तव

बड़े कवि से मिलना

अच्युतानंद मिश्र

जीत

नरेश अग्रवाल

लक्ष्य

राकेश मिश्र

तुम और मैं

कन्हैयालाल सेठिया

स्वभाव

कन्हैयालाल सेठिया

कहाँ

अंकुश कुमार

गिरना और गिराना

गोविंद माथुर

नभ पर एक सुनहली रेखा खींचो

कृष्ण मुरारी पहारिया

रहस्य-9

सोमेश शुक्ल

अंधी दौड़ कभी पूरी नहीं होती

संतोष कुमार चतुर्वेदी

स्वीकृति

विपिन कुमार अग्रवाल

नाकामयाब

शंभु यादव

मेरे युग का नायक

निलय उपाध्याय

कछुआ और ख़रगोश

यतींद्र मिश्र

उन्नति

नरेश अग्रवाल
बोलिए