नौकरी

कवि के संघर्ष में उसका आर्थिक संघर्ष एक प्रमुख उपस्थिति है और इसी से जुड़ा है फिर रोज़गारी-बेरोज़गारी का उसका अपना विशिष्ट दुख। प्रस्तुत चयन ऐसी ही कविताओं से किया गया है।

सेवा सबसे कठिन व्रत है।

जयशंकर प्रसाद

संबंधित विषय