नौकरी पर कविताएँ

कवि के संघर्ष में उसका

आर्थिक संघर्ष एक प्रमुख उपस्थिति है और इसी से जुड़ा है फिर रोज़गारी-बेरोज़गारी का उसका अपना विशिष्ट दुख। प्रस्तुत चयन ऐसी ही कविताओं से किया गया है।

अगले सबेरे

विष्णु खरे

आरर डाल

त्रिलोचन

चौराहा

राजेंद्र धोड़पकर

शराब के नशे में

अच्युतानंद मिश्र

सेवानिवृत्ति

अविनाश मिश्र

सुख है

अविनाश मिश्र

बीमा एजेंट

सौरभ राय

हाथी

वीरेन डंगवाल

नौकरी न होने के दिनों में

घनश्याम कुमार देवांश

नौकरी

प्रयाग शुक्ल

चाकरी में स्वप्न पाले कौन

कृष्ण मुरारी पहारिया

खूँटा

शुभम् आमेटा

नौकरी एक चुड़ैल

घनश्याम कुमार देवांश

भला लगता है

रमेश रंजक

पिंजड़ा

विनोद दास

एक घंटे का समय

सारुल बागला

सरूली

महेश चंद्र पुनेठा

रोटी की प्रत्याशा में

मुकेश निर्विकार

अन्ना फिरा मैं

केशव तिवारी

लगना

मलयज

संघर्ष

अरुण देव

हीरोइन

हरि मृदुल

कबूतर

नवीन रांगियाल

बुनकर

रामाज्ञा शशिधर

रंजनजी मुसकाय

राकेश रंजन

दफ़्तर

हरे प्रकाश उपाध्याय

कमाया घंटा

राकेश रंजन

नौकरी

मिथिलेश श्रीवास्तव

बेरोज़गारी

कुमार अनुपम

कोटा

निशांत

स्पॅाट बॅाय

हरि मृदुल

ज़िंदगी का लेखा

मदनलाल डागा

इस साल

सुनीता जैन

ट्रैफ़िक जाम

स्वाति शर्मा

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए