Font by Mehr Nastaliq Web

लौटना पर कविताएँ

लौटना आधुनिक कविताओं

में एक प्रमुख मनोगतता के रूप में अभिव्यक्त है। इस चयन में शामिल कविताओं में लौटने के अनंत भावों को ग्रहण किया का सकता है।

प्रेम लौटता है

गौरव गुप्ता

अबकी बार लौटा तो

कुँवर नारायण

एक अजीब दिन

कुँवर नारायण

देना

नवीन सागर

मैं लौट जाऊँगा

उदय प्रकाश

घर

ममता बारहठ

अगले सबेरे

विष्णु खरे

बार-बार

ममता बारहठ

लौटकर जब आऊँगा

अशोक वाजपेयी

तुम्हारा नाम

राजेंद्र धोड़पकर

अब लौटें

उदय प्रकाश

मनवांछित

जितेंद्र कुमार

समुद्र की मछली

कुँवर नारायण

वापस

विष्णु खरे

घर जाने में

पंकज प्रखर

अकेले में शर्म आती है

रामकुमार तिवारी

दूध के दाँत

गीत चतुर्वेदी

अच्छा नदी मुझे चलने दो

कृष्ण मुरारी पहारिया

रुक तो जाता

अशोक वाजपेयी

भेजना

त्रिभुवन

दिनों बाद

नवीन सागर

लौटना

अजंता देव

जो युवा था

श्रीकांत वर्मा

जी भर बात

रामाज्ञा शशिधर

मैं फिर आऊँगा

भवानीप्रसाद मिश्र

तुममें लौटना

घनश्याम कुमार देवांश

जितना भी लौटे

नवीन सागर

लौटना

प्रभात

तवा

विनोद दास

विकल्प

विष्णु खरे

उसने लौटने का...

उदयन वाजपेयी

मैं लौटूँगा

विनय सौरभ

लौटना

सुमेर सिंह राठौड़

तुम्हें लौटना था

केशव तिवारी

वापसी

राजकमल चौधरी

संधिकाल

राजेंद्र धोड़पकर

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए