सिनेमा पर कविताएँ

सिनेमा ऐसा कला-रूप है

जहाँ साहित्य, संगीत, अभिनय, नृत्य जैसे कलासिक कला-रूपों के साथ ही फ़ोटोग्राफी, एनीमेशन, डिजिटल एडिटिंग, ग्राफ़िक्स जैसे अन्य आधुनिक कला-रूप प्रतिबिंबित होते हैं। आधुनिक समाज और सिनेमा का अनन्य संबंध देखा जाता है, जहाँ दोनों एक-दूसरे की प्रवृत्तियों का अनुकरण करते नज़र आते हैं। इस चयन में सिनेमा विषयक कविताओं का संकलन किया गया है।

स्मिता पाटिल

दिनेश कुशवाह

सत्तर का दशक

व्योमेश शुक्ल

फ़िल्म

व्योमेश शुक्ल

फ़्रेंच सिनेमा

देवी प्रसाद मिश्र

समांतर सिनेमा

असद ज़ैदी

अभिनेता

विपिन कुमार अग्रवाल

हेलेन

दिनेश कुशवाह

मैटिनी शो

आलोकधन्वा

मीना कुमारी

दिनेश कुशवाह

कबीर सिंह

आयुष झा

रेखा

दिनेश कुशवाह

स्पॅाट बॅाय

हरि मृदुल

लोग कहते हैं

नीलेश रघुवंशी

दृश्य चलता रहे

राजेश शर्मा

शोले

सिद्धेश्वर सिंह