पत्र पर कविताएँ

पत्र बातों और भावनाओं

को शब्दों में प्रकट कर संवाद करने का एक माध्यम है। प्रस्तुत चयन में उन कविताओं का संकलन किया गया है, जिनमें पत्र प्रमुख तत्त्व और प्रसंग की तरह कविता में उपस्थित हुए हैं।

प्रेमपत्र

बद्री नारायण

प्रेमपत्र

सुधांशु फ़िरदौस

नवसंदेश-रासक

अविनाश मिश्र

बिछड़ने की आशंकाएँ

नवीन रांगियाल

आख़िरी चिट्ठी

बाबुषा कोहली

कभी नहीं सोचा था

सुरजीत पातर

भेजना

त्रिभुवन

अवरुद्ध

अंकिता आनंद

रात-गाड़ी

वीरेन डंगवाल

बारिश

सौरभ अनंत

ख़त

राही डूमरचीर

प्रेमपत्र

सौरभ अनंत

ख़ुसरो के नाम ख़त

कैलाश वाजपेयी

संपादक को पत्र

कृष्ण कल्पित

ख़त

विनोद दास

पोस्टकार्ड-महिमा

वीरेन डंगवाल

हे मेरी तुम

केदारनाथ अग्रवाल

ख़त फूल और कविता

संजय शेफर्ड

आख़िरी चिट्ठी

गीत चतुर्वेदी

नदियाँ

सौरभ अनंत

माँ

कुलदीप कुमार

बाबू को ख़त

अखिलेश सिंह

कविता

संजय शेफर्ड

पत्र-वाचक

रमाशंकर सिंह

प्रेमपत्र

सुशोभित

पत्र

अतुल

निकम्मापन

प्रदीप्त प्रीत

अप्रैल

सौरभ अनंत

पिता के संदर्भ में

आदित्य शुक्ल

पत्र और ग्रीटिंग

नासिर अहमद सिकंदर

पत्र

नवारुण भट्टाचार्य

निवेदन

अय्यप्प पणिक्कर

माँ को ख़त

विवेक चतुर्वेदी

पहला ख़त

अंकुश कुमार

एक

दर्पण साह

चिट्ठियाँ

अनुपम सिंह

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए