भाई पर कविताएँ

एक सामाजिक और पारिवारिक

प्राणी के रूप में कवि की अभिव्यक्ति में पारिवारिक संबंधों की धूप-छाँह, घर में गुज़रे पलों की स्मृतियाँ और दंश, नाते-रिश्तेदार आदि का उतरना भी बेहद स्वाभाविक है। इस चयन में प्रस्तुत भाई विषयक कविताओं में इस अनूठे संबंध की ऊष्मा और ऊर्जा को महसूस किया जा सकता है।

चौदह भाई बहन

व्योमेश शुक्ल

घर की याद

भवानीप्रसाद मिश्र

राखी की चुनौती

सुभद्राकुमारी चौहान

धूप में भाई

प्रयाग शुक्ल

...भाई रे

उदय प्रकाश

भाई

बोधिसत्व