बाल साहित्य पर कविताएँ

बाल साहित्य के अंतर्गत

बच्चों और किशोरों के लिए लिखी गई रचनाएँ संकलित की गई हैं। ‘हिन्दवी’ ने यहाँ बाल साहित्य के अर्थ को कुछ व्यापक करने की कोशिश की है। इस क्रम में न सिर्फ़ यहाँ बच्चों के लिए लिखा गया साहित्य संकलित है, बल्कि उन रचनाओं को भी यहाँ सहेजा गया है जिन्हें ख़ुद बच्चों ने ही रचा है। इसके अतिरिक्त हिंदी की जिन महत्वपूर्ण कविताओं में समय-समय पर बच्चे आएँ हैं, उन कविताओं का भी एक चयन यहाँ प्रस्तुत है।

एक आलसी टीचर के नोट्स

घनश्याम कुमार देवांश

मेरी दुनिया के तमाम बच्चे

अदनान कफ़ील दरवेश

भूख

नरेश सक्सेना

नक़्शा

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

एक कहानी आसमान की

प्रमोद पाठक

पहला नाम

प्रेम रंजन अनिमेष

मछलियाँ

नरेश सक्सेना

धरती

शरद बिलाैरे

मेरे बच्चे

शरद बिलाैरे

एक जुलाई

संदीप तिवारी

मोजे़ में रबर

शुभम श्री

बच्ची के लिए

विनय दुबे

मातृभाषा की मौत

जसिंता केरकेट्टा

बच्चा

भगवत रावत

बच्चे

सुघोष मिश्र

बचपन की कविता

मंगलेश डबराल

बूबू

शुभम श्री

तवांग के बच्चे

घनश्याम कुमार देवांश

सड़क पर

इब्बार रब्बी

मदद

प्रेम रंजन अनिमेष

बच्चे

देवयानी भारद्वाज

प्राथमिक स्कूल

चंद्रकांत देवताले

सामना

अनूप सेठी

खिलौना

अरुण देव

स्वर्ग के बच्चे

घनश्याम कुमार देवांश

एक माँ की बेबसी

कुँवर नारायण

बाहर

मंगलेश डबराल

बचे बच्चे

प्रेमशंकर शुक्ल

अच्छे बच्चे

नरेश सक्सेना

बढ़े चलो

द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

मेघ आए

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

कल्पना

हेमंत देवलेकर

खिलौनेवाला

सुभद्राकुमारी चौहान

यहाँ

विष्णु नागर

गुरु और चेला

सोहनलाल द्विवेदी

ग्राम श्री

सुमित्रानंदन पंत

छोटी-सी शॉपिंग

निदा फ़ाज़ली

हो-हल्ला

हेमंत देवलेकर
बोलिए