क्रोध पर कविताएँ

निवेदन

विष्णु खरे

रूठती नहीं हैं

सोनी पांडे

मैंने तो अपनी अलगनी सजा ली

कृष्ण मुरारी पहारिया

तस्वीरें

सुभाष राय

ताली

फ़रीद ख़ाँ

सुनो

अखिलेश सिंह

ग़ुस्सा

गुलज़ार

नहीं से शुरू

राजुला शाह

तेवर

विजय बहादुर सिंह

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए