मौसम पर कविताएँ

किसी स्थान विशेष की

दिन-प्रतिदिन की वायुमंडलीय दशा को मौसम कहा जाता है। मौसम का कवि-मन पर प्रभाव पड़ना और प्रभावतः अभिव्यक्तियों का जन्म अत्यंत नैसर्गिक स्थिति है। इस चयन में ऐसी ही कुछ कविताओं का संकलन किया गया है।

भरोसा

सारुल बागला

फागुनी हवाएँ

अखिलेश सिंह

नवसंदेश-रासक

अविनाश मिश्र

एक धुँधला दिन

सौरभ अनंत

भादों की संध्या का जब

कृष्ण मुरारी पहारिया

इस मौसम में

सारुल बागला

गद्य

सौरभ अनंत

दिल दुखने की बातें

हरजीत अर्नेस्ट

ध्रुपद का टुकड़ा

दिनेश कुमार शुक्ल

अट नहीं रही है

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

कृतघ्न

गोविंद द्विवेदी

स्मृति

नंद चतुर्वेदी

आषाढ़ का पहला दिन

भवानीप्रसाद मिश्र

क्वार में बारिश

श्रुति गौतम

अक्टूबर

सत्यम तिवारी

मुंबई की ठंडी

कुमार वीरेंद्र

दोहराव

सौरभ अनंत

मुझसे बात करो

सोनी पांडेय

अप्रैल

सौरभ अनंत

पलाश के फूल

अमेय कांत

चैत की चौपही

दिनेश कुमार शुक्ल

इंतिज़ार

बेबी शॉ

घोंघे

रमाशंकर सिंह

उदास हो चला गया वसंत

रविशंकर उपाध्याय

प्रतीक्षा

दिलीप शाक्य

मेघ

प्रदीप्त प्रीत

नवंबर

गंगाप्रसाद विमल

आना मार्च

सौम्य मालवीय

या

प्रदीप सैनी

किसी रोज़

गौरव भारती

वाष्पीकरण

अंकिता आनंद

ज़रा-ज़रा-सा

सुनीता जैन

तब तक

राकेश रंजन

मौसम का उत्सव

केदार कानन

चैत की हवा

श्यामसुंदर भारती

रजाई

रामाज्ञा शशिधर

दिसंबर

अमेय कांत

उदास मौसम है

कल्पना पंत

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए