यातना पर कविताएँ

यातना घोर शारीरिक या

मानसिक कष्ट की स्थिति है। इस चयन में उन कविताओं को शामिल किया गया है, जिनमें यातना एक केंद्रीय विषय है।

या

सौरभ अनंत

ख़तरा

कुमार अम्बुज

नंगी गालियाँ

नाज़िश अंसारी

तंत्र

सौरभ कुमार

बताना

पायल भारद्वाज

मेरा गला दबा दो माँ

नाज़िश अंसारी

यातना का शिल्प

सारुल बागला

दुख लिखा जाना चाहिए

पंकज चतुर्वेदी

कुछ बातें

सुंदर चंद ठाकुर

कड़ुवे सीमांत पर

कैलाश वाजपेयी

मूलतः कवि

अविनाश मिश्र

सो गए

फ़रीद ख़ाँ

घर लौटते मज़दूर

कृष्ण कल्पित

माधवी

सुमन राजे

घर के भीतर

स्वप्निल श्रीवास्तव

अनुभव

नरेंद्र जैन

प्रतिक्रिया

शीला सिद्धांतकर

देश

विनोद दास

मेरी ज़ुबान

हरि मृदुल

रेलवे प्लेटफ़ॉर्म पर

पंकज चतुर्वेदी

विवशता

संजय शेफर्ड

मैं सबसे क्रूर था

नवीन रांगियाल

कारावास

नरेंद्र जैन

नया अत्याचारी

मदन कश्यप

मुँह बंद

शैलजा पाठक

भूख

रविशंकर उपाध्याय

तीसरा चेहरा

नरेंद्र जैन

जेल में जानें बंद हैं

सूर्यांशी पांडेय

आदमी और मच्छर

रविशंकर उपाध्याय

भाई साहब

हरि मृदुल

तहख़ाने में क़ैद

अजीत रायज़ादा