ग़रीबी

दरिद्रता सब पापों की जननी है तथा लोभ उसकी सबसे बड़ी संतान है।

जयशंकर प्रसाद

संबंधित विषय