मीडिया पर कविताएँ

मीडिया का सामान्य अर्थ

संचार-माध्यम है। समकालीन संवाद में यह मुख्यतः न्यूज़ मीडिया और सोशल मीडिया को सूचित करता है। मीडिया को लोकतंत्र के प्रहरी के रूप में देखा जाता है। समय के साथ इसकी छवि सत्ता में अपनी हिस्सेदारी चाहते एक शक्ति-समूह के रूप में भी बनी है। इस चयन में मीडिया के सरोकारों से संबंधित विभिन्न विषयों पर संवाद करती कविताओं का संकलन किया गया है।

नवस्तुति

अविनाश मिश्र

अ-प्रेम कविता

मृगतृष्णा

अख़बार पढ़ते हुए

हरीशचंद्र पांडे

विज्ञापन

अनीता वर्मा

लाजो

देवी प्रसाद मिश्र

पत्रकार महोदय

वीरेन डंगवाल

मीडिया : एक

आश करण अटल

ऑलिविये जीरूड

राही डूमरचीर

चैनल पर रैडिकल

देवी प्रसाद मिश्र

चौथा शेर

उदय प्रकाश

हरा रंग

हरि मृदुल

नगर निवासी

श्रीकांत वर्मा

मीडिया : दो

आश करण अटल

ख़बर

नरेंद्र गौड़

तथाकथित पत्रकार

काका हाथरसी

राष्ट्रीय समाचार

प्रभात त्रिपाठी

ताज़ा ख़बर

वसीम अकरम

आश्चर्य

प्रमोद बेड़िया

आँकड़ों का सच

अरविंद चतुर्वेद

दुःख

संदीप तिवारी

ख़बरों का ख़ुलासा

शीला सिद्धांतकर

अख़बार

गौरव भारती

जैसे कोई ख़बर हो

प्रभात त्रिपाठी

मर्यादा में नहीं

रामकुमार कृषक

टेलीविजन

रघुवीर सहाय

पत्रिका

देवी प्रसाद मिश्र

नया वेद

कुबेर दत्त

ख़बर

नरेंद्र जैन

वह अख़बार

प्रभात त्रिपाठी

छोटा परदा

हरि मृदुल

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए