सन्नाटा पर कविताएँ

सन्नाटा का अर्थ है—स्तब्धता,

ख़ामोशी, मौन। यह निर्जनता और एकांत का भी अर्थ देता है। रूपक में सन्नाटा चीख़ का विलोम भी हो सकता है, चीख़ का प्रतिरोध और पर्याय भी। प्रस्तुत चयन में शामिल कविताओं में सन्नाटे की आवाज़ को बख़ूबी सुना जा सकता है।

मेरे भीतर की कोयल

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

तुम्हारा मौन

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

छंद

अज्ञेय

सन्नाटा

भवानीप्रसाद मिश्र

ज्ञ

प्रकाश

अकथ

प्रकाश

समय के उलट

अंजुम शर्मा

कुछ न होने के तले

अमिताभ चौधरी

चुप्पी

गिरधर राठी

जड़ता का गीत

इब्बार रब्बी

सन्नाटा

नेमिचंद्र जैन

समझदारों का गीत

गोरख पांडेय

श्राप

संगीता गुंदेचा

भीगना

अमेय कांत

पाँव पसारती है चुप

पारुल पुखराज

चुप्पी का समाजशास्त्र

जितेंद्र श्रीवास्तव

मुलाक़ात

नवीन रांगियाल

सन्नाटा

जगन्नाथ प्रसाद दास

साँवली ख़ामोशी

विजय बहादुर सिंह

आरफ़्यूज़

दूधनाथ सिंह

अलविदा

कुलदीप कुमार

इक लरज़ता नीर था

सुरजीत पातर

ख़ून और ख़ामोशी

सविता सिंह

विरह

सुमित त्रिपाठी

अगली सदी तक

नरेंद्र जैन

नहीं बोलने पर

विजया सिंह

विरोध

शंकरानंद

चुप्पी

प्रेमा झा

तुम्हारी चुप्पी

आनंद गुप्ता

शब्द चुप हैं

वसीम अकरम

छुएगा नहीं उदासी

पारुल पुखराज

चीज़ें मौन में

गोविंद द्विवेदी

सुनना

सोमप्रभ

रहस्य-18

सोमेश शुक्ल

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए