आदिवासी पर कविताएँ

दलित-विमर्श की तरह ही

आदिवासी-विमर्श भी हिंदी साहित्य और कविता में गए कुछ दशकों में प्रमुखता से उभरा है। प्रस्तुत चयन आदिवासी समाज को आधार बनाने वाली कविताओं से किया गया है।

परवाह

जसिंता केरकेट्टा

पाठा की बिटिया

केशव तिवारी

अगर यह हत्या थी

महेश वर्मा

आदिवासी स्त्रियाँ

निर्मला पुतुल

लकड़हारे की पीठ

अनुज लुगुन

संथाल परगना

निर्मला पुतुल

बिटिया मुर्मू के लिए

निर्मला पुतुल

आइसक्रीम

ऋतुराज

पका बाघ

फ़रीद ख़ाँ

चुप्पी का समाजशास्त्र

जितेंद्र श्रीवास्तव

मातृभाषा की मौत

जसिंता केरकेट्टा

अघोषित उलगुलान

अनुज लुगुन

नदी, पहाड़ और बाज़ार

जसिंता केरकेट्टा

उससे मेरा संबंध क्या था?

जसिंता केरकेट्टा

मैं कलुआ माँझी हूँ

रमणिका गुप्त

आदिवासी प्रेमी युगल

जोशना बैनर्जी आडवानी

झारखंड

अनीता वर्मा

इस बार बारिश

बसंत त्रिपाठी

महुवाई गंध

अनुज लुगुन

राष्ट्रगान बज रहा है

जसिंता केरकेट्टा

मेरे हाथों के हथियार

जसिंता केरकेट्टा

जड़ों की ज़मीन

जसिंता केरकेट्टा

साहेब! कैसे करोगे ख़ारिज?

जसिंता केरकेट्टा

प्रार्थना का समय

जसिंता केरकेट्टा

लालगढ़

अनुज लुगुन

तुम अगर आओ

अनुज लुगुन