एकांत

कविता एकांत देती है।

अशोक वाजपेयी

अकेले बैठना, चुप बैठना—इस प्रश्न की चिंता से मुक्त होकर बैठना कि ‘क्या सोच रहे हो?’—यह भी एक सुख है।

अज्ञेय

संबंधित विषय