नींद

निद्रा भी कैसी प्यारी वस्तु है। घोर दु:ख के समय भी मनुष्य को यही सुख देती है।

जयशंकर प्रसाद

संबंधित विषय