अतीत पर कविताएँ

अतीत का अभिप्राय है

भूतकाल, व्यतीत, बीत चुका समय, जिसका अस्तित्व या सत्ता समाप्त हो चुकी। प्रस्तुत चयन में अतीत के विभिन्न रंगों, धूप-छाया का प्रसंग लेती कविताओं का संकलन किया गया है।

मेज़

गिरिराज किराडू

पुराने दोस्त

शैलेंद्र साहू

व्यतीत

प्रकाश

जब मैं नदी था

आदित्य शुक्ल

वर्तमान है वह

संजीव गुप्त

आउट स्विंग

संजय राय

रहस्य-17

सोमेश शुक्ल

चिकनी फिसलन भरी

सुरेश सलिल

अतीत का वर्तमान

गोबिंद प्रसाद

मधुस्रोत-2

आचार्य रामचंद्र शुक्ल

मधुस्रोत-1

आचार्य रामचंद्र शुक्ल

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए