कला पर उद्धरण

कविता के रंग चित्रकला के प्रकृति-रंग नहीं होते।

राजकमल चौधरी

कोई भी कला सबसे पहले रचनात्मकता का अनुभव है। रचनात्मकता ही एक कला का प्रमुख विषय (content) होता है।

कुँवर नारायण

साहित्य, लालित्य के बचाव में प्रयत्नशील बने रहने की भी भूमि है।

अशोक वाजपेयी

कला कैलेंडर की चीज़ नहीं है।

शमशेर बहादुर सिंह

आधुनिकता एक मूल्य नहीं है, मूल्य के प्रति एक दृष्टि है।

कुँवर नारायण

आधुनिकतावाद भले ही अलग-अलग टुकड़ों और बारीकियों में सफल रहा हो, सारत: वह विफल हो गया।

मंगलेश डबराल

संस्कृति मानव-चेतना का सार पदार्थ है।

सुमित्रानंदन पंत

श्रेष्ठ कलाओं में अंतर्विरोध नहीं होता, विभिन्नताओं का समन्वय और सहअस्तित्व होता है।

कुँवर नारायण

सारी कलाएँ एक-दूसरे में समोई हुई हैं, हर कला-कृति दूसरी कलाकृति के अंदर से झाँकती है।

शमशेर बहादुर सिंह

किसी भी कला का जीवन अपने में अकेला होते हुए भी संदर्भ-बहुल भी होता है।

कुँवर नारायण

जागृत राष्ट्र में ही विलास और कलाओं का आदर होता है।

जयशंकर प्रसाद

संबंधित विषय