हँसी पर कविताएँ

हँसी एक भौतिक प्रतिक्रिया

है जो किसी आंतरिक या बाह्य उद्दीपन की अनुक्रिया के रूप में प्रकट होती है। इसे आनंद, ख़ुशी, राहत, सुख जैसी सकारात्मक भावावेश की श्रवण-योग्य अभिव्यक्ति माना जाता है। कई बार वह विलोम परिदृश्यों, जैसे : शर्मिंदगी, भ्रम या आश्चर्य की दशा में भी एक रक्षात्मक प्रतिक्रिया के रूप में प्रकट होती है। इस चयन में हँसी विषय पर अभिव्यक्त उत्कृष्ट कविताओं को शामिल किया गया है।

औरत का हँसना

चंद्रकांत देवताले

हँसी-ख़ुशी

शैलेंद्र साहू

हँसी

विष्णु खरे

भय

अनीता वर्मा

हँसी

नरेश सक्सेना

एक पर हँसी

प्रकाश

तलाशी

गीत चतुर्वेदी

आपकी हँसी

रघुवीर सहाय

चक्र

नीलेश रघुवंशी

नेपथ्य में हँसी

राजेश जोशी

प्राइमरी कक्षाओं के बच्चे

मोहन कुमार डहेरिया

हँसा बहुत ज़ोर से

शैलेंद्र दुबे

तुम्हारी हँसी

संजय शेफर्ड

दर्पण-सी हँसी

सविता सिंह

सूना-सूना पथ है, उदास झरना

शमशेर बहादुर सिंह

हँसती हुई औरतें

विमलेश त्रिपाठी

गांधी की हँसी

सदानंद शाही

हँसी

अनीता वर्मा

तुम जब हँसती हो

सवाई सिंह शेखावत

तुम्हारी हँसी होती

सुदीप बनर्जी

दीवानगी

गोबिंद प्रसाद

वह लड़की

अनिल जनविजय

हँसना

स्वप्निल श्रीवास्तव

बची हुई हँसी

गोविंद माथुर

हँसने के बारे में

मिथिलेश कुमार राय

वही हँसी

विजय बहादुर सिंह

ऊँट की हँसी

बजरंग बिश्नोई

जैसे हँसते थे तुम

विजय बहादुर सिंह

हँसी

स्मिता सिन्हा

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए