तस्वीर पर कविताएँ

तस्वीर किसी व्यक्ति,

वस्तु या दृश्य के अक्स के रूप में प्रेक्षक के अंदर विभिन्न भावों को जन्म देती है और यही कारण है कि वह कभी अपनी वस्तुगत उपस्थिति में तो कभी किसी गुज़र चुके पल के रूपक में कविता के इस्तेमाल का निमित्त बनती रही है।

छूना मत

सविता भार्गव

तुम अगर सिर्फ़

सारुल बागला

तस्वीर

मंगलेश डबराल

हुलिया

अजंता देव

कैमरे की आँख

मोनिका कुमार

पिता की तस्वीर

मंगलेश डबराल

अपनी तस्वीर

मंगलेश डबराल

पुरानी तस्वीरें

मंगलेश डबराल

तस्वीर

मंगलेश डबराल

तस्वीरें

सुभाष राय

सेल्फ़ी

प्रज्ञा सिंह

तस्वीर

लाल्टू

माँ की तस्वीर

मंगलेश डबराल

मेड्रिड 2019

गिरिराज किराडू

तस्वीर

नवीन सागर

मोनालिसा

सुमन केशरी

डरती हूँ

लाल्टू

पिता की तस्वीर की जगह

उमा शंकर चौधरी

संगत-असंगत

सुधांशु फ़िरदौस

उस लड़की की हँसी

गोविंद माथुर

फ़ोटोग्राफर

राहुल राजेश

उसकी छवि को देखते हुए

जोशना बैनर्जी आडवानी

हर तस्वीर

प्रभात त्रिपाठी

एक चित्र

महेश आलोक

सच में आ जाता

प्रभात त्रिपाठी

स्केच (?)

लाल्टू