Font by Mehr Nastaliq Web

भक्ति पर सबद

भक्ति विषयक काव्य-रूपों

का संकलन।

कतिक करम कमावणे

गुरु अर्जुनदेव

हम घरि साजन आए

गुरु नानक

बारहमासा

तुलसी साहब

सभना मरणा आइआ

गुरु नानक

सावण सरसी कामणी

गुरु अर्जुनदेव

संतो! खेती की रुति आई

हरिदास निरंजनी

तेरो कपरा नहीं अनाज

दरिया (बिहार वाले)

जो धुनियाँ तौ भी मैं राम तुम्हारा

संत दरिया (मारवाड़ वाले)

धनि-धनि पीव की राजधानी हो

तुरसीदास निरंजनी

दुनियाँ भरम भूल बौराई

संत दरिया (मारवाड़ वाले)

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए