पाखंड पर सबद

इस चयन में प्रस्तुत

कविताओं का ज़ोर पाखंडों के पर्दाफ़ाश पर है। ये कविताएँ पाखंड को खंड-खंड करने का ज़रूरी उत्तरदायित्व वहन कर रही हैं।

पंडित पढ़ि गुन भए बिलाई

दरिया (बिहार वाले)

रे नर ऐसा गुरु ना कीजै

दरिया (बिहार वाले)

पंडित सांच कहे जग मारे

दरिया (बिहार वाले)

तीर्थ बर्त कर्म रचि राखा

दरिया (बिहार वाले)

पंडित बूझो सब्द बिचारी

दरिया (बिहार वाले)