वियोग पर कविताएँ

वियोग संयोग के अभाव

या मिलाप न होने की स्थिति और भाव है। शृंगार में यह एक रस की निष्पत्ति का पर्याय है। माना जाता है कि वियोग की दशा तीन प्रकार की होती है—पूर्वराग, मान और प्रवास। प्रस्तुत चयन में वियोग के भाव दर्शाती कविताओं का संकलन किया गया है।

एक और ढंग

श्रीकांत वर्मा

पार करना

प्रदीप सैनी

इच्छा

सौरभ अनंत

प्रेम में

सुधांशु फ़िरदौस

पलाश

मनोज कुमार पांडेय

बाहर बारिश

अविनाश मिश्र

तुम अगर सिर्फ़

सारुल बागला

स्पर्श

मदन कश्यप

द्वितीया

अज्ञेय

नमक पर यक़ीन ठीक नहीं

नवीन रांगियाल

दाख़िल-ख़ारिज

सुधांशु फ़िरदौस

पति-पत्नी

निखिल आनंद गिरि

बेटी का स्कूल

निखिल आनंद गिरि

रेलपथ

बेबी शॉ

इतना भर प्रेम

गौरव गुप्ता

मैं लिखूँगी प्रेम

स्मिता सिन्हा

बिछुड़न की रात का काजल

वीरेंद्र कुमार जैन

कैसे रहोगे

पंकज चतुर्वेदी

हिज्र

सुधांशु फ़िरदौस

वही नहीं है

अशोक वाजपेयी

जन्म

स्मृति प्रशा

टूटता वृक्ष

वसु गंधर्व

विस्मरण

वसु गंधर्व

मृत्यु

देवयानी भारद्वाज

आह

मनोज कुमार पांडेय

विरह का गीत

कांतानाथ पांडेय 'चोंच'

हिज्र

नवीन रांगियाल

प्रेम

अनुजीत इक़बाल

विदा की भाषा

गौरव गुप्ता

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए