समय पर कविताएँ

समय अनुभव का सातत्य

है, जिसमें घटनाएँ भविष्य से वर्तमान में गुज़रती हुई भूत की ओर गमन करती हैं। धर्म, दर्शन और विज्ञान में समय प्रमुख अध्ययन का विषय रहा है। भारतीय दर्शन में ब्रह्मांड के लगातार सृजन, विनाश और पुनर्सृजन के कालचक्र से गुज़रते रहने की परिकल्पना की गई है। प्रस्तुत चयन में समय विषयक कविताओं का संकलन किया गया है।

एक दिन

अखिलेश सिंह

विध्वंस की शताब्दी

आस्तीक वाजपेयी

बीते हुए दिन

राजेंद्र धोड़पकर

अगले सबेरे

विष्णु खरे

हाथ और साथ का फ़र्क़

जावेद आलम ख़ान

चश्मा

राजेंद्र धोड़पकर

उदाहरण के लिए

नरेंद्र जैन

सन् 3031

त्रिभुवन

सेवानिवृत्ति

अविनाश मिश्र

यह कैसी विवशता है?

कुँवर नारायण

मेज़

गिरिराज किराडू

आषाढ़

अखिलेश सिंह

सात दिन का सफ़र

मंगलेश डबराल

क्रियापद

दिनेश कुमार शुक्ल

फ़ैमिली अलबम

विजया सिंह

लंबी छुट्टियाँ

प्रदीप्त प्रीत

एक दृश्य

सारुल बागला

समय ही सामर्थ्य देता है

कृष्ण मुरारी पहारिया

नया बारामासा

कृष्ण कल्पित

समतल

आदर्श भूषण

अरण्यानी से वापसी

श्रीनरेश मेहता

दो बारिशों के बीच

राजेंद्र धोड़पकर

चाकरी में स्वप्न पाले कौन

कृष्ण मुरारी पहारिया

ज़्यादा होना

व्योमेश शुक्ल

मेरा समय

त्रिभुवन

भेंट का समय

अमित तिवारी

एक क्षण की याद

अमन त्रिपाठी

त्रिकाल दीक्षा

दिनेश कुमार शुक्ल

निष्कासन

विजय बहादुर सिंह

समय के उलट

अंजुम शर्मा

थोड़ा

निधीश त्यागी

कृतघ्न

गोविंद द्विवेदी

अब हम

अशोक वाजपेयी

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए