हाथ पर कविताएँ

हाथ हमारे प्रमुख अंग

हैं, जो हमें विशिष्ट कार्य-सक्षमता प्रदान करते हैं और इस रूप में श्रम-शक्ति के उपस्कर हैं। वे स्पर्श और मुद्राओं के माध्यम से प्रेम हो या प्रतिरोध—हमारी भावनाओं की अभिव्यक्ति का माध्यम भी बनते हैं। इस चयन में हाथ को विषय बनाती कविताओं का संकलन किया गया है।

हाथ

केदारनाथ सिंह

रोए क़ाबिल हाथ

संजय चतुर्वेदी

सतहें

कुँवर नारायण

ये जो दो हाथ हैं

देवी प्रसाद मिश्र

हाथों में विचार और प्रेम

रविंद्र स्वप्निल प्रजापति

हाथ

अदनान कफ़ील दरवेश

वे हाथ होते हैं

वेणु गोपाल

माँ के हाथ

शंकरानंद

दो साबुत आँखें

लीलाधर मंडलोई

सुर्ख़ हथेलियाँ

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

हाथ

नरेंद्र जैन

हमारे हाथ

प्रभात त्रिपाठी

शूद्रों के जो हाथ

नवेंदु महर्षि

यह हाथ

प्रयागनारायण त्रिपाठी

गोबर हाथ

शरद रंजन शरद

ख़ाली हाथ

मणि मोहन

यह हाथ

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

युक्ति

प्रेम रंजन अनिमेष