नफ़रत पर कविताएँ

नफ़रत या घृणा वीभत्स

रस का स्थायी भाव है। इसे चित् की खिन्नता की स्थिति के रूप में चिह्नित किया जाता है। इस चयन में नफ़रत के मनोभाव पर विचार-अवकाश लेती कविताओं का संकलन किया गया है।

एक अजीब-सी मुश्किल

कुँवर नारायण

भव्यता के विरुद्ध

रविशंकर उपाध्याय

पति की प्रेमिका के नाम

रश्मि भारद्वाज

कौन मुझको युद्ध को ललकारता है

कृष्ण मुरारी पहारिया

घृणा भी करनी पड़ी

केशव तिवारी

नफ़रत के ज़हर से

अजीत रायज़ादा

कर्बला

राजेश जोशी

नफ़रत करो

राजेश जोशी

तेईस

दर्पण साह

कुछ मनोभाव

प्रियदर्शन

तब्दील

अंकिता रासुरी

कभी जब

विमलेश त्रिपाठी

विषम

मनीष कुमार यादव

घृणा

सी. बी. भारती

ख़तरनाक

लीलाधर मंडलोई

उस आदमी ने कहा

विशाल श्रीवास्तव

दो भाई

शंकरानंद

अमेरिका का प्यार

विष्णु नागर

यह शहर

त्रिभुवन

सुविधा के लिए

मोना गुलाटी

नफ़रत

अनिल कुमार सिंह

तुमने मुझसे

पूनम अरोड़ा

घृणा

राजेश कमल

घृणा

पायल भारद्वाज

अमरनाथ 2017

स्वाति मेलकानी

छुछदुलार

मुसाफ़िर बैठा

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए