कृष्ण पर सवैया

रोज न आइयै जौ मन मोहन

ठाकुर बुंदेलखंडी