बुद्ध पर कविताएँ

धर्म-जगत में बुद्ध का

आविर्भाव एक क्रांति की तरह हुआ था। ओशो ने बुद्ध को धर्म का पहला वैज्ञानिक कहा है। भारतीय धर्म और जीवन-दर्शन पर उनका समग्र प्रभाव आज भी बना हुआ है। इस चयन में बुद्ध और बुद्धत्व को केंद्र बनाती कविताओं का संकलन किया गया है।

अनागत

देवी प्रसाद मिश्र

समझा जाना

सुधांशु फ़िरदौस

बुद्ध से

मृगतृष्णा

एक ही चेहरा

पंकज चतुर्वेदी

कल

सुमन केशरी

खोया-पाया

अनिल कुमार सिंह

बामियान बुद्ध

सितांशु यश्चंद्र

आजकल कैक्टस

पद्मजा घोरपड़े

फराओ और बुद्ध

दीपक जायसवाल

पहला सफ़ेद बाल

पंकज चतुर्वेदी

आम्रपाली

अनामिका

सबसे क्रूर हत्या

रजनीश संतोष

यात्रा

दीपक सिंह

एकालाप

गौरव गुप्ता

बुद्ध

गिरिजाकुमार माथुर

बुद्धत्त्व

रामनिवास जाजू

पटना का गांधी मैदान

नित्यानंद गायेन

सुख

पूनम अरोड़ा

सुनो बुद्ध

चित्रा सिंह

ख़तरनाक है लौटना

अनुराधा सिंह

अनर्गल

सुजाता

हे बुद्ध

मनोज मोहन

बुद्धं शरणं गच्छामि

धीरेंद्र 'धवल'

तथागत बुद्ध

कल्पना पंत

बुद्ध या बुद्धू

प्रतिभा चौहान

बुद्ध

रेखा चमोली

बुद्ध और कविता

श्रुति गौतम

बुद्ध मुस्कराए हैं

हरीशचंद्र पांडे

जेतवन में भिक्षुणी

विशाल श्रीवास्तव

जिस रास्ते गए वे

बीरेंद्र चट्टोपाध्याय

रजत-गिरी कैलास

राय देवीप्रसाद ‘पूर्ण’

रूपतत्त्व

मायाधर मानसिंह

बुद्ध

अरुण देव

बुद्ध अमर है

ज्ञानेश्वर

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए