देशभक्ति पर कविताएँ

देश के प्रति आस्था,

अनुराग और कर्तव्यपरायणता ही नहीं, देश से अपेक्षाओं और समकालीन मोहभंग के इर्द-गिर्द देशभक्ति के विस्तृत अर्थों की पड़ताल करती कविताओं से एक चयन।

झाँसी की रानी

सुभद्राकुमारी चौहान

हिमालय

रामधारी सिंह दिनकर

जेल में आती तुम्हारी याद

शिवमंगल सिंह सुमन

आज देश की मिट्टी बोल उठी है

शिवमंगल सिंह सुमन

वीरों का कैसा हो वसंत?

सुभद्राकुमारी चौहान

सन् 1857 की जनक्रांति

गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही'

देशभक्त हे!

आर. चेतनक्रांति

दमदार दावे

अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध

पथ भूल न जाना पथिक कहीं!

शिवमंगल सिंह सुमन

शहीदों की चिताओं पर

जगदंबा प्रसाद मिश्र ‘हितैषी'

क़दम क़दम बढ़ाए जा

वंशीधर शुक्ल

उठ जाग मुसाफ़िर

वंशीधर शुक्ल

पुष्प की अभिलाषा

माखनलाल चतुर्वेदी

असहयोग

गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही'

सीलमपुर के लड़के

आर. चेतनक्रांति

सागर खड़ा बेड़ियाँ तोड़े

माखनलाल चतुर्वेदी

अनिद्रा में

सविता सिंह

स्वदेश

गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही'

क़ैदी और कोकिला

माखनलाल चतुर्वेदी

बिदा

सुभद्राकुमारी चौहान

15 अगस्त 1947

सुमित्रानंदन पंत

सिपाही

माखनलाल चतुर्वेदी

निशीथ-चिंता

रामनरेश त्रिपाठी

तकली

गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही'

जवानी का झंडा

रामधारी सिंह दिनकर

सबेरा हुआ है

वंशीधर शुक्ल

भारत-धरनि

श्रीधर पाठक

सुंदर भारत

श्रीधर पाठक

स्मरणीय भाव

श्रीधर पाठक

नक़ली क़िला

मैथिलीशरण गुप्त

वह देश कौन-सा है?

रामनरेश त्रिपाठी

मुक्त गगन है, मुक्त पवन है

माखनलाल चतुर्वेदी

वसंत के नाम पर

रामधारी सिंह दिनकर

भारत माता

सुमित्रानंदन पंत

राखी की चुनौती

सुभद्राकुमारी चौहान

जग में अब भी गूँज रहे हैं

सियारामशरण गुप्त

पलटनिया पिता

अनिल कार्की

पंद्रह अगस्त

शंकर शैलेंद्र

स्वागत-गीत

सुभद्राकुमारी चौहान

आज़ादी

सारुल बागला

अमर राष्ट्र

माखनलाल चतुर्वेदी

दीनदयाल दया करिए

प्रतापनारायण मिश्र

हम सैनिक हैं

सियारामशरण गुप्त

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए