noImage

जसवंत सिंह

1629 - 1678 | जोधपुर, राजस्थान

मारवाड़ के राजा और रीतिकालीन कवि आचार्य। अलंकार निरूपण ग्रंथ 'भाषा भूषण' से हिंदी-संसार में प्रतिष्ठित।

मारवाड़ के राजा और रीतिकालीन कवि आचार्य। अलंकार निरूपण ग्रंथ 'भाषा भूषण' से हिंदी-संसार में प्रतिष्ठित।

जसवंत सिंह के दोहे

मुग्धा तन त्रिबली बनी, रोमावलि के संग।

डोरी गहि बैरी मनौ, अब ही चढ़यो अनंग॥

कुंभ उच्च कुच सिव बने, मुक्तमाल सिर गंग।

नखछत ससि सोहै खरो, भस्म खौरि भरि अंग॥

पिक कुहुकै चातक रटै, प्रगटै दामिनि जोत।

पिय बिन यह कारी घटा, प्यारी कैसे होत॥

मुक्तमाल हिय स्याम कैं, देखी भावत नेन।

छबि ऐसी लागत मनौ, कालिंदी में फेन॥

सुधा भरयो ससि सब कहैं, नई रीति यह आहि।

चंद लगै जु चकोर ह्वै, बिस मारत क्यों ताहि॥

जल सूकै पुहमी जरै, निसि यामें कृस होत।

ग्रीषम कूँ ढूँढत फिरै, घन लै बिजुरी जोत॥

पुहमि बियोगिनि मेह की, धौरी पीरी जोत।

जरि-जरि कारी पीय बिन, मिलैं हरीरी होत॥

आसव की यह रीति है, पीयत देत छकाइ।

यह अचिरज तियरूपमद, सुध आए चढ़ि जाइ॥

रबि दरसै पंकज खुलै, उड़ै भौंर इकबार।

हिय तें मनौ बियोग के, निकसैं बुझे अँगार॥