संसार पर अनुवाद

‘संसरति इति संसारः’—अर्थात

जो लगातार गतिशील है, वही संसार है। भारतीय चिंतनधारा में जीव, जगत और ब्रहम पर पर्याप्त विचार किया गया है। संसार का सामान्य अर्थ विश्व, इहलोक, जीवन का जंजाल, गृहस्थी, घर-संसार, दृश्य जगत आदि है। इस चयन में संसार और इसकी इहलीलाओं को विषय बनाती कविताओं का संकलन किया गया है।

आवाज़ें-80

अंतोनियो पोर्चिया

आवाज़ें-143

अंतोनियो पोर्चिया

आवाज़ें-52

अंतोनियो पोर्चिया

आवाज़ें-235

अंतोनियो पोर्चिया

आवाज़ें-222

अंतोनियो पोर्चिया

आवाज़ें-69

अंतोनियो पोर्चिया

आवाज़ें-3

अंतोनियो पोर्चिया

संबंधित विषय