कवियों की सूची

सैकड़ों कवियों की चयनित कविताएँ

इस सदी में सामने आईं हिंदी कथाकार। समय-समय पर काव्य-लेखन भी।

फागों के लिए स्मरणीय।

सुपरिचित कवि। विश्व कविता के अनुवाद की पत्रिका ‘तनाव’ के संपादन के लिए सम्मानित।

इस सदी में सामने आईं कवयित्री। चित्रकला से भी जुड़ाव।

नई पीढ़ी के कवि। गद्य-लेखन में भी सक्रिय।

'नाथ संप्रदाय' से प्रभावित संत। 'आदिग्रंथ' में संकलित संत कवियों में से एक।

क्रांतिकारी चेतना से युक्त हिंदी के अत्यंत महत्त्वपूर्ण कवि।

‘मैथिल कोकिल’ के नाम से लोकप्रिय। राधा-कृष्ण की शृंगार-प्रधान लीलाओं के ग्रंथ ‘पदावली’ के लिए स्मरणीय।

नई पीढ़ी के कवि। दलित-संवेदना-सरोकारों के लिए उल्लेखनीय। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

समादृत कवि-आलोचक। ‘जायसी’ शीर्षक आलोचना-पुस्तक के लिए उल्लेखनीय।

सुपरिचित कवि-आलोचक।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक।

हिंदी के अल्पचर्चित कवि। ‘क’ पत्रिका के संपादक।

हिंदी और अँग्रेज़ी दोनों में लेखन। सिनेमा में रुचि, शोध और निर्माण।

आदिकालीन जैन काव्य-धारा के कवि।

समादृत कवि-आलोचक। लोक-संवेदना और सरोकारों के लिए उल्लेखनीय।

रीतिकालीन कवि। शृंगार और प्रेम की भावभूमि के सुंदर दोहों के लिए स्मरणीय।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक। रंगमंच और सिनेमा में बतौर अभिनेता सक्रिय।

सुपरिचित कथाकार और कवि। सिनेमा से भी संबद्ध।

हिंदी के सुपरिचित कवि-कथाकार। पत्रकारिता में भी सक्रिय। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

नई पीढ़ी के सुपरिचित कवि-कथाकार।

आठवें दशक के सशक्त हिंदी कवि।

कविता और आलोचना विधा में सक्रिय। कवि-सम्मेलनों में भी आवाजाही।

हिंदी और उर्दू की नई पीढ़ी के कवि-लेखक।

आठवें दशक में उभरे कवि, कथाकार और कला-आलोचक। भारत भारतभूषण पुरस्कार से सम्मानित।

नवें दशक के कवि-लेखक। ‘ख़िलाफ़ हवा से गुज़रते हुए’ चर्चित कविता-संग्रह।

सुप्रसिद्ध कवि-कथाकार। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

नवें दशक में उभरे कवि। लोकधर्मी से चेतना से संपन्न।

सुपरिचित कवि-लेखक।

दलित-संवेदना और सरोकारों के लिए उल्लेखनीय कवि-कथाकार।

इस सदी में सामने आईं हिंदी की कुछ प्रमुख कवयित्रियों में से एक। अनुवाद-कार्य के लिए भी उल्लेखनीय।

‘नई कविता’ दौर के कवि। निबंध और नाट्य-लेखन में भी सक्रिय रहे।

समादृत कवि-लेखक। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

समय : 11-12वीं सदी। वज्रयानी सिद्ध, तंत्रयोगी और चौरासी सिद्धों में समादृत कवि।

‘पीली रोशनी से भरा काग़ज़’ शीर्षक कविता-संग्रह के कवि। जनवादी लेखक संघ से जुड़ाव।

समादृत कवि-आलोचक और अनुवादक। कविता का एक अलग मुहावरा गढ़ने और काव्य-विषय-वैविध्य के लिए उल्लेखनीय।

आठवें दशक के प्रमुख कवि-लेखक और संपादक। व्यंग्य में भी उल्लेखनीय योगदान।

समादृत कवि-लेखक और अनुवादक। ‘कवि’ पत्रिका के संपादक। ‘मुक्तिबोध की आत्मकथा’ शीर्षक पुस्तक के लिए उल्लेखनीय।

एक समय के सुपरिचित कवि-आलोचक, लेकिन अब अलक्षित।

रीतिकालीन नीतिकवि। सूक्तिकार के रूप में स्मरणीय।

सुपरिचित कवि-आलोचक और अनुवादक। रंगकर्म में भी सक्रिय। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

नई पीढ़ी के कवि-कथाकार और गीतकार। फ़ि‍ल्म-लेखन में भी सक्रिय।