Font by Mehr Nastaliq Web

कवियों की सूची

सैकड़ों कवियों की चयनित कविताएँ

सुपरिचित तेलुगु कवि-लेखक-समालोचक। प्रगतिशील लेखन और गतिविधियों के लिए उल्लेखनीय।

समादृत कथाकार। समय-समय पर काव्य-लेखन भी।

अपभ्रंश के महत्त्वपूर्ण कवि। अन्य नाम ‘अद्दहमाण’। समय : 11-12वीं सदी। ‘संदेश रासक’ कीर्ति का आधार-ग्रंथ।

रीतिकालीन नखशिख परंपरा के कवि।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक।

नई पीढ़ी के रचनाकार। पत्रकारिता से जुड़ाव।

सुपरिचित डोगरी कवि। 'लालसा' काव्य-संग्रह के लिए साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक।

नई पीढ़ी के सुपरिचित कवि-आलोचक। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

सामाजिक-राजनीतिक आलोचना के प्रखर कवि-ग़ज़लकार।

नई पीढ़ी की सुपरिचित कवयित्री।

नई पीढ़ी के कवि। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

समादृत कवि-कथाकार-अनुवादक और संपादक। भारतीय ज्ञानपीठ से सम्मानित।

सुपरिचित तेलुगु कवि-लेखक-पत्रकार। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

सुपरिचित कवयित्री। कविताओं में उपस्थित संगीतात्मक वैभव के लिए उल्लेखनीय।

सुपरिचित कवि और पत्रकार। जन संस्कृति मंच से संबद्ध।

पर्वतीय-संवेदना और सरोकारों को अभिव्यक्ति देने वाले हिंदी के सुपरिचित कवि।

असमिया भाषा के सुप्रतिष्ठित कवि, समालोचक और अनुवादक। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

बांग्ला के सुपरिचित कवि-निबंधकार।

हिंदी के प्रसिद्ध कवि-लेखक और संपादक। हरिवंश राय बच्चन से निकटता के लिए भी चर्चित

सुपरिचित कवि-लेखक और प्रशासनिक अधिकारी। एक से अधिक पुस्तकें प्रकाशित। 'हाशिए पर आदमी' उल्लेखनीय कविता-संग्रह।

प्रतिष्ठित कहानीकार। तद्भव पत्रिका के संपादक।

नई पीढ़ी से संबद्ध कवि-लेखक।

मलयालम के समादृत कवि और निबंधकार। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित।

योग और वेदांग के ज्ञाता। कहने को संत कवि लेकिन प्रकृति से वैष्णव भक्त। महाराजा छत्रशाल के आध्यात्मिक गुरु।

राधाकृष्ण भक्त। विष्णु स्वामी संप्रदाय से संबंध। वंशीअली के शिष्य। युगल भक्ति के कोमल पदों के लिए स्मरणीय।

सुप्रसिद्ध हास्य कवि।

अधुनांतिक बांग्ला कवि।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक और अनुवादक।

नई पीढ़ी के कवि।

यथार्थवादी धारा के समादृत कथाकार। भारतीय ज्ञानपीठ से सम्मानित।

नई पीढ़ी के चर्चित कवि-लेखक।

राजस्थानी और हिंदी के सुप्रसिद्ध कवि। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

'भारतेंदु मंडल' के कवियों में से एक। कविता की भाषा और शिल्प रीतिकालीन। 'काशी कवितावर्धिनी सभा’ द्वारा 'सुकवि' की उपाधि से विभूषित।

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए