आँसू पर गीत

मानवीय मनोभाव के एक

प्रकट चिह्न के रूप में आँसू हमेशा से काव्य के विषय-वस्तु रहे हैं और वृहत रूप से इनके बहाने से कवियों ने विविध दृश्य और संवाद रचे हैं।

रोने वाला ही गाता है

गोपालदास नीरज

कोई यह आँसू...

महादेवी वर्मा

संबंधित विषय