झील पर कविताएँ

कविताओं और गीतों में

प्रेमिकाओं की आँखों की गहराई को व्यक्त करने के लिए झील प्राय: आती रही है। इस आगमन से इतर भी कविता में यह बहुत बार सीधे उपस्थित रही है। यहाँ प्रस्तुत हैं—झील विषयक कुछ कविताएँ।

झील

हेमंत देवलेकर

झील एक नाव है

प्रेमशंकर शुक्ल

पहाड़ी झील

कुँवर नारायण

बरकुल : चिलका झील

गिरिजाकुमार माथुर

स्वयंप्रभा झील

दूधनाथ सिंह

झील

साैमित्र मोहन

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए