कवियों की सूची

सैकड़ों कवियों की चयनित कविताएँ

समादृत कथाकार, अनुवादक और संपादक। ‘काला जल’ उपन्यास के लिए चिर स्मरणीय।

आदि कवि। जन्म : 780 ई. के आस-पास। सरहपा के शिष्य। माया-मोह के विरोधी और सहज जीवन के साधक।

नई पीढ़ी के कवि। गद्य-लेखन में भी सक्रिय।

सुपरिचित कवि-लेखक।

सुप्रसिद्ध हास्य कवि।

सुपरिचित कवयित्री।

संक्षिप्तता के लिए उल्लेखनीय कवि। वर्ष 1997 से चित्रकला में भी सार्थक हस्तक्षेप।

नई पीढ़ी के कवि। कला और सिनेमा के संसार से संबद्ध।

हिंदी के सुपरिचित कवि-कथाकार।

नई पीढ़ी की कवयित्री।

अज्ञेय द्वारा संपादित ‘दूसरा सप्तक’ की कवयित्री। प्रसिद्ध कवि गिरिजा कुमार माथुर की जीवन-संगिनी।

नवगीत काव्यधारा के प्रमुख कवियों में से एक युयुत्सावादी कवि। क्रांतिकारी विचारों के लिए उल्लेखनीय।

समय : 13वीं सदी। जैन कवि। गणपतिचंद्र गुप्त के अनुसार हिंदी के प्रथम कवि। अनेक कृतियों से रास-काव्य-परंपरा को समृद्ध किया।

आधुनिककाल के नीति कवि। काव्य-भाषा ब्रजी। अल्पज्ञात कवि।

भक्ति की सरस फागों के लिए स्मरणीय।

रीतिकालीन अलक्षित कवि।

‘नया एक आख्यान’ शीर्षक कविता-संग्रह के कवि। लोक-संवेदना के लिए उल्लेखनीय।

सुचर्चित गीतकार और संपादक।

समादृत कवि-गद्यकार और अनुवादक। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

‘तू ज़िंदा है तो ज़िंदगी की जीत में यक़ीन कर...’ के रचयिता और लोकप्रिय गीतकार। सिनेमा और प्रगतिशील आंदोलन से संबद्ध।

नई पीढ़ी से संबद्ध कवि-लेखक।

शांति मेहरोत्रा: पाँचवें-छठे दशक में सामने आईं कवयित्री-कथाकार। लघुकथा और व्यंग्य विधा में भी योगदान।

दलित-स्त्री-विमर्श की प्रतिनिधि कवयित्री-लेखिका।

‘तय तो यही हुआ था’ शीर्षक कविता-संग्रह के कवि। कम आयु में दिवंगत। मरणोपरांत भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

समादृत लेखक और व्यंग्यकार।

सुपरिचित कवि।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक।

समकालीन कविता में एक कवि के रूप में कम, एक मार्क्सवादी अध्येता और कार्यकर्ता के रूप में अधिक चर्चित। दो कविता-संग्रह प्रकाशित।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक और पत्रकार।

‘एक ख़त जो किसी ने लिखा भी नहीं’ शीर्षक गीत के सुपरिचित गीतकार। कवि-सम्मेलनों में लोकप्रिय रहे।

नई पीढ़ी के सुपरिचित कवि-गद्यकार।

समादृत कथाकार। 'कोसी का घटवार' कहानी के लिए विशेष रूप से लोकप्रिय।

हिंदी की वामधारा के महत्त्वपूर्ण कवि-लेखक। पंद्रह से अधिक कविता-संग्रह प्रकाशित।

सुपरिचित कवि-लेखक। दलित-संवेदना और सरोकारों के लिए उल्लेखनीय।

सुपरिचित कवयित्री।

हिंदी की प्रगतिशील और जनवादी धारा के कवि-गीतकार और कार्यकर्ता।

सुपरिचित कवि और गद्यकार। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

सुपरिचित कवि-आलोचक। ‘पृथ्वी पर एक जगह’ शीर्षक कविता-संग्रह उल्लेखनीय।

रीतिकाल के अलक्षित कवि।

बुंदेली फागों के कवि।

धीमे-धीमे, लेकिन अपनी धुन में रहने-रचने वाले हिंदी के अनूठे कवि-लेखक-कलाकार।

रीतिकालीन अलक्षित कवि।

छायावाद से संबद्ध कवि-लेखक। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

साहित्यसेवी, पत्रकार और स्वतंत्रता-सेनानी। ‘आज’ समाचार-पत्र के प्रकाशन और ‘काशी विद्यापीठ’ की स्थापना के लिए उल्लेखनीय।

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए