Sumitranandan Pant's Photo'

सुमित्रानंदन पंत

1900 - 1977 | कौसानी, उत्तराखंड

छायावाद के आधार स्तंभों में से एक। 'प्रकृति के सुकुमार' कवि। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित।

छायावाद के आधार स्तंभों में से एक। 'प्रकृति के सुकुमार' कवि। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित।

सुमित्रानंदन पंत की संपूर्ण रचनाएँ

कविता 11

उद्धरण 21

जिस प्रकार अनेक रंगों में हँसती हुई फूलों की वाटिका को देखकर दृष्टि सहसा आनंद-चकित रह जाती है, उसी प्रकार जब काव्य-चेतना का सौंदर्य हृदय में प्रस्फुटित होने लगता है, तो मन उल्लास से भर जाता है।

  • शेयर

कोई यथार्थ से जूझकर सत्य की उपलब्धि करता है और कोई स्वप्नों से लड़कर। यथार्थ और स्वप्न दोनों ही मनुष्य की चेतना पर निर्मम आघात करते हैं, और दोनों ही जीवन की अनुभूति को गहन गंभीर बनाते हैं।

  • शेयर

यथार्थ का दर्पण जिस प्रकार जगत की बाह्य परिस्थितियाँ हैं, उसी प्रकार आदर्श का दर्पण मनुष्य के भीतर का मन है।

  • शेयर

स्वप्नद्रष्टा या निर्माता वही हो सकता है, जिसकी अंतर्दृष्टि यथार्थ के अंतस्तल को भेदकर उसके पार पहुँच गई हो, जो उसे सत्य समझकर केवल एक परिवर्तनशील अथवा विकासशील स्थिति भर मानता हो।

  • शेयर

कवि-दर्शन तर्कसम्मत नहीं, भावना तथा प्रेरणा-सम्मत होता है।

  • शेयर
  • संबंधित विषय : कवि

वीडियो 14

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
कवि सुमित्रानंदन पंत और उनकी कविता

कविता मंजरी आह धरती कितना टैक्स्ट 2

कविता मंजरी काले बादल

कविता मंजरी पर्वत प्रदेश लौंग

कविता मंजरी पोयम नौका-विहार

कविता मंजरी संध्या के बाद न्यू

चैप्टर 4 वे आँखें/पाठ 4 वे आँखें

मैं सबसे छोटी होऊँ/मैं सबसे छोटी होऊँ

लैसन 13 मैं सबसे छोटी होऊँ

सुमित्रानंदन पंत/सुमित्रानंदन पंत

हिन्दी कविता : पहाड़ों पर बारिश : SumitraNandan Pant : Yunus Khan in Hindi Studio with Manish Gupta

कविता मंजरी ग्राम श्री कविता 2

सुमित्रानंदन पंत 4: यह धरती कितना देती है Sumitranandan Pant 4: Yah Dharti Kitna Deti Hai

Interview with Sumitranandan Pant | सुमित्रानंदन पंत | Hindi Poet

"उत्तराखंड" से संबंधित अन्य कवि

  • सिद्धेश्वर सिंह सिद्धेश्वर सिंह
  • लीलाधर जगूड़ी लीलाधर जगूड़ी
  • अवधेश कुमार अवधेश कुमार
  • ओमप्रकाश वाल्मीकि ओमप्रकाश वाल्मीकि
  • शैलेय शैलेय
  • कविता कृष्णपल्लवी कविता कृष्णपल्लवी