noImage

गरीबदास

1717 - 1778 | रोहतक, हरियाणा

रीतिकालीन संत। ग़रीब पंथ के प्रवर्तक। राम-रहीम में अभेद और सर्वधर्म समभाव के पक्षधर। कबीर के स्वघोषित शिष्य।

रीतिकालीन संत। ग़रीब पंथ के प्रवर्तक। राम-रहीम में अभेद और सर्वधर्म समभाव के पक्षधर। कबीर के स्वघोषित शिष्य।

गरीबदास की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 6

साहब तेरी साहबी, कैसे जानी जाय।

त्रिसरेनू से झीन है, नैनों रहा समाय॥

  • शेयर

साहब मेरी बीनती, सुनो गरीब निवाज।

जल की बूँद महल रचा, भला बनाया साज॥

  • शेयर

पारस हमारा नाम है, लोहा हमरी जात।

जड़ सेती जड़ पलटिया, तुम कूँ केतिक बात॥

  • शेयर

भगति बिना क्या होत है, भरम रहा संसार।

रत्ती कंचन पाय नहिं, रावन चलती बार॥

  • शेयर

सुरत निरत मन पवन कूँ, करो एकत्तर यार।

द्वादस उलट समोय ले, दिल अंदर दीदार॥

  • शेयर

पद 1

 

सबद 10

"हरियाणा" से संबंधित अन्य कवि

  • असद ज़ैदी असद ज़ैदी
  • पूनम अरोड़ा पूनम अरोड़ा
  • अतुलवीर अरोड़ा अतुलवीर अरोड़ा
  • मनास मनास
  • सोमेश शुक्ल सोमेश शुक्ल