noImage

दुरगा

फाग कवि।

फाग कवि।

दुरगा के दोहे

नैनन में बिस बहुत है, ना मारौ दिलजान।

गुरन-गुरन बिंध जायगौ, कैसें निकरैं प्रान॥

  • संबंधित विषय : आँख