noImage

दरिया (बिहार वाले)

1634 - 1780 | रोहतास, बिहार

मुक्ति पंथ के प्रवर्तक। स्वयं को कबीर का अवतार घोषित करने वाले निर्गुण संत-कवि।

मुक्ति पंथ के प्रवर्तक। स्वयं को कबीर का अवतार घोषित करने वाले निर्गुण संत-कवि।

दरिया (बिहार वाले) की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 14

प्रेम ज्ञान जब उपजे, चले जगत कंह झारी।

कहे दरिया सतगुरु मिले, पारख करे सुधारी॥

  • शेयर

भक्ति करे सो सूरमा, तन मन लज्जा खोय।

छैल चिकनिया बिसनी, वा से भक्ति ना होय॥

  • शेयर

माला टोपी भेष नहीं, नहीं सोना शृंगार।

सदा भाव सतसंग है, जो कोई गहे करार॥

  • शेयर

सुरति निरति नेता हुआ, मटुकी हुआ शरीर।

दया दधि विचारिये, निकलत घृत तब थीर॥

  • शेयर

जब लगि विरह उपजे, हिये उपजे प्रेम।

तब लगि हाथ आवहिं धरम किये व्रत नेम॥

  • शेयर

सबद 29

"बिहार" से संबंधित अन्य कवि

  • अरुण कमल अरुण कमल
  • आलोकधन्वा आलोकधन्वा
  • सुधांशु फ़िरदौस सुधांशु फ़िरदौस
  • अनुज लुगुन अनुज लुगुन
  • अनीता वर्मा अनीता वर्मा
  • राजकमल चौधरी राजकमल चौधरी
  • मनोज कुमार झा मनोज कुमार झा
  • मिथिलेश कुमार राय मिथिलेश कुमार राय
  • सत्येंद्र कुमार सत्येंद्र कुमार
  • कुमार मुकुल कुमार मुकुल