कड़वक

यह स्वतंत्र छंद नहीं है, बल्कि एक शैली है। एक निश्चित कर्म में पाँच या सात चौपाइयों के बाद एक दोहे का प्रयोग। अपभ्रंश काव्य में दोहे के स्थान पर अडिल्ल का प्रयोग किया जाता रहा। सूफ़ियों ने अडिल्ल के स्थान पर दोहे का प्रयोग किया जिसे धत्ता कहा जाता है।

सूफ़ी संत। शाह निज़ामुद्दीन चिश्ती की शिष्य परंपरा में 'हाजी बाबा' के शिष्य। भाषा में अवधी के साथ अरबी-फ़ारसी की शब्दावली का प्रयोग।

चिश्ती संप्रदाय के संत शेख़ बुरहान के शिष्य। जौनपुर के बादशाह हुसैनशाह के आश्रित। प्रेम में त्याग और कष्टों के सुंदर वर्णन के लिए उल्लेखनीय।

1515

अजमेर के राजा विग्रहराज चतुर्थ के राजकवि। वीरगीत के रूप में सबसे पहली कृति 'बीसलदेव रासो' के रचयिता।

हिंदी में प्रेमाख्यान परंपरा का सूत्रपात करने वाले सूफ़ी कवि।

1400 -1475

भक्ति-काव्य की निर्गुण धारा के अंतर्गत समाहित सूफ़ी काव्य के अत्यंत महत्वपूर्ण कवि। ‘पद्मावत’ कीर्ति का आधार-ग्रंथ।

1467 -1542