वालिद के नाम एक ख़त

प्यारे अब्बा!

मैं जानता हूँ कि मैं इस तहरीर के पहले लफ़्ज़ को आपको पुकारने के लिए इस्तेमाल करने के लायक़ नहीं हूँ। मैं यह भी जानता हूँ कि मैंने होश सँभालने से लेकर अब तक आपको सिर्फ़ दुख पहुँचाया है। हाँ! यह सच है कि मैं आपका हिस्सा हूँ, लेकिन यह भी है कि मैं आपका ‘अच्छा हिस्सा’ कहलाने के लायक़ भी नहीं हूँ। मुझे मालूम है कि आपके सीने का दर्द, दर्द नहीं—‘मैं’ हूँ। मेरी नाकामियाँ, हठधर्मिता, ज़िद और बेज़ारी हमेशा से आपके सीने का बोझ रही है। लेकिन अब्बा इसमें आपकी कोई ख़ता नहीं है, सारी ख़ताएँ मेरी हैं। मैं अपनी अना को आगे रखते हुए आपको ताउम्र दुख पहुँचाता रहा हूँ। 

अब्बा!

मेरी ग़लती बस यह है कि मैंने किसी से मुहब्बत कर ली। हालाँकि आप कहते थे, “लोअर मिडिल क्लास लड़कों को मुहब्बत करने की इजाज़त नहीं होती।” लेकिन मुझसे यह ग़लती हो चुकी, एक बार नहीं दो बार। और दोनों बार मैं वहीं आकर खड़ा हूँ—जहाँ ना कोई मेरे साथ है, और ना ही किसी का शफ़क़त से भरा हाथ मेरे सर पर है। सिर्फ़ एक काला धुआँ है जो मेरे सर से पैरों तक लिपटा हुआ है और मुझे खा रहा है। 

आज लेटे हुए आपकी नीम बंद आँखें बार-बार चीख़-चीख़ कर मुझसे यह कह रही हैं कि क़ुबूल करो, यह सब तुम्हारा किया-धरा है। इसके ज़िम्मेदार तुम हो। 

मैं इसका एतराफ़ करता हूँ, यह सब मेरी बदौलत है, आपकी इस हालत का ज़िम्मेदार मैं हूँ, मेरे अलावा कोई नहीं। मुझे वो सब याद पड़ रहा है, जब साइकिल पर आप मुझे स्टेशन छोड़ने जाया करते थे ताकि मैं बड़े शहर में पढ़ूँ और आपका नाम बुलंद करूँ। मुझे वो दिन भी याद आ रहा है, जब आपने ख़ुद एक पुरानी जैकेट पहनकर मुझे कॉलेज आने-जाने के लिए दो नई जर्सियाँ दिलाईं थी। मैं अब भी उसी दुकान पर खड़ा हूँ अब्बा! लेकिन मेरे पास उन जर्सियों की आबरू रखने के लिए एक वजूद नहीं है।

अब्बा!

मैं क्या करूँ और किस तरह से आपकी चाहत को मुक़म्मल करूँ ताकि आपको यह एतबार हो कि मैंने कोशिश की—सब सही कर सकूँ लेकिन आपके पास मुझ पर एतबार करने की कोई दलील भी तो नहीं। मैंने तब-तब आपका एतबार तोड़ा, जब-जब आपने मुझ पर आँख मूँदकर एतबार किया।

मैं चाहता था कि मैं अपनी ज़िम्मेदारियों को अच्छे से निभाऊँ लेकिन ना जाने मुझ पर मुहब्बत की नाकामी का आसेब कब आन चढ़ा कि मैं कुछ भी करने के क़ाबिल नहीं रहा। आप कहते थे कि 14 साल की उम्र की पीठ की दिक़्क़त उस रोज़ ख़ुद ठीक हो जाएगी, जब आपको पीठ पर मेरा सहारा मिल जाएगा। मुझे माफ़ करना! मैं आपकी पीठ बनने की बजाय आपकी पीठ तोड़ चुका।

अब्बा ! 

आपका यह बेटा हमेशा एक नाकाम शख़्स रहा। ज़िंदगी में, मुहब्बत में और अब रिश्तों में भी। उसने वो सब कुछ खो दिया, जो उसे सँभाल कर रखना था। अब इस मोड़ पर मेरे ख़ाली हाथों में दुआ के लिए हिम्मत भी नहीं क्योंकि मुझमें से दीन तो दबे-पाँव कब का जा चुका। मैं हमेशा ‘बेटा’ बनने के लिए तरसा। हो सके तो मेरी ख़ताओं को दरगुज़र कर देना।

आपका ‘नालायक़’

'बेला' की नई पोस्ट्स पाने के लिए हमें सब्सक्राइब कीजिए

Incorrect email address

कृपया अधिसूचना से संबंधित जानकारी की जाँच करें

आपके सब्सक्राइब के लिए धन्यवाद

हम आपसे शीघ्र ही जुड़ेंगे

27 अप्रैल 2024

समॉरा का क़ैदी

27 अप्रैल 2024

समॉरा का क़ैदी

‘समारा का क़ैदी’ एक प्राचीन अरबी कहानी है। इस कहानी का आधुनिक रूपांतरण सोमरसेट मौ'म ‘अपॉइंटमेंट इन स्मारा’ (1933) नाम से कर चुके हैं। यहाँ इस कहानी का चित्रकथात्मक रूपांतरण कर रहे—अविरल कुमार और मैना

26 अप्रैल 2024

पिता के बारे में

26 अप्रैल 2024

पिता के बारे में

पिता का जाना पिता के जाने जैसा ही होता है, जबकि यह पता होता है कि सभी को एक दिन जाना ही होता है फिर भी ख़ाली जगह भरने हम सब दौड़ते हैं—अपनी-अपनी जगहों को ख़ाली कर एक दूसरी ख़ाली जगह को देखने। वह जगह

25 अप्रैल 2024

नाऊन चाची जो ग़ायब हो गईं

25 अप्रैल 2024

नाऊन चाची जो ग़ायब हो गईं

वह सावन की कोई दुपहरी थी। मैं अपने पैतृक आवास की छत पर चाय का प्याला थामे सड़क पर आते-जाते लोगों और गाड़ियों के कोलाहल को देख रही थी। मैं सोच ही रही थी कि बहुत दिन हो गए, नाऊन चाची की कोई खोज-ख़बर नहीं

23 अप्रैल 2024

'झीनी बीनी चदरिया' का बनारस

23 अप्रैल 2024

'झीनी बीनी चदरिया' का बनारस

एक शहर में कितने शहर होते हैं, और उन कितने शहरों की कितनी कहानियाँ? वाराणसी, बनारस या काशी की लोकप्रिय छवि विश्वनाथ मंदिर, प्राचीन गुरुकुल शिक्षा के पुनरुत्थान स्वरूप बनाया गया बनारस हिंदू विश्वविद्य

22 अप्रैल 2024

शुद्ध भाषा किस चिड़िया का नाम है?

22 अप्रैल 2024

शुद्ध भाषा किस चिड़िया का नाम है?

कुछ मित्र अक्सर हिंदी में प्रूफ़ रीडिंग की दुर्गति पर विचार करते रहते हैं। ऐसे में अचानक थोड़ी पुरानी बात याद आ गई। मैं एक बार हिंदी के एक बड़े लेखक के घर बैठा हुआ था। मैंने बातों-बातों में ही ख़र्च

बेला लेटेस्ट

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए