शुद्ध भाषा किस चिड़िया का नाम है?

कुछ मित्र अक्सर हिंदी में प्रूफ़ रीडिंग की दुर्गति पर विचार करते रहते हैं। ऐसे में अचानक थोड़ी पुरानी बात याद आ गई। मैं एक बार हिंदी के एक बड़े लेखक के घर बैठा हुआ था। मैंने बातों-बातों में ही ख़र्च चलाने के लिए प्रूफ़ रीडिंग की चर्चा की और 10 रुपए प्रति पृष्ठ की बात की, तो वह चौंक गए और बोले कि इतना कौन दे रहा है मुझे भी दिलवाइए। इसके बाद चौंकने की बारी मेरी थी कि एक ऐसे लेखक जिनकी किताबों पर कई लोग रिसर्च कर चुके हैं, वह प्रूफ़ रीडिंग की माँग क्यों कर रहे हैं। 

दूसरा प्रसंग ज्ञानपीठ से प्रकाशित होने वाली एक किताब का है। मेरे एक आत्मीय लेखक ने कहा कि मेरी आँखें अब साथ नहीं दे रही हैं, छपने के लिए किताब का फ़ाइनल प्रूफ़ आ चुका है; एक बार आप भी देख लें। मेरे मन में ज्ञानपीठ की जो विराट छवि थी उसके आधार पर मैंने कहा कि जब वे लोग तीन बार देख चुके हैं तो मुझे देखने की क्या आवश्यकता है? आदरणीय लेखक ने मुलायमियत से कहा फिर भी एक बार देख लीजिए और फिर से मैं चकित हुआ, क्योंकि शुरू के चार पृष्ठों में ही क़रीब 10 ग़लतियाँ निकल गईं। 

वास्तव में भाषिक शुद्धता को लेकर हमारा रवैया ही अद्भुत है। हिंदी जानने वाले पेंटर अँग्रेज़ी में शुद्ध पेंट करते हैं, जिसे वे नहीं जानते; पर हिंदी में ऐसी-ऐसी ग़लतियाँ कि आप दिल्ली की सड़कों के नाम देख लें तो अनेक जगहों पर ‘रोड़’ लिखा मिलेगा। 

हिंदी प्रकाशन की दुनिया भी अद्भुत है। बड़े-बड़े प्रकाशक तक चाहते हैं कि लेखक ही पांडुलिपि तैयार करें, वे ही उसके प्रूफ़ कई बार चेक करें; यही नहीं प्रकाशित करने का ख़र्चा भी लेखक ही उठाए। अगर वह लेखक थोड़ा प्रतिष्ठित है और प्रकाशन का ख़र्च नहीं दे रहा है तो वह उसका प्रचार-प्रसार करे, लोगों के पीछे पड़कर उसकी ख़रीद के लिए लोगों से मनुहार करे; बार-बार लोकार्पण आदि करवाए। यानी हज़ार दो हज़ार प्रतियाँ उसके परिचय के आधार पर निकल जाएँ, जो ऐसा नहीं कर पा रहा है—वह काहे का लेखक? 

यह कहने में कोई संकोच नहीं कि हिंदी का लेखक ‘लेखक’ बनने के लिए जितना श्रम, जितना संसाधन और जितना समय ख़र्च करता है—उससे बहुत कम समय में वह किसी भी क्षेत्र में ज़्यादा बेहतर ज़िंदगी जी सकता है। यही कारण है कि अपने ही समाज में इन्हें कोई प्रतिष्ठा के योग्य नहीं समझता, हाँ जब भौतिकता और उच्च जीवन-शैली का इतना दबाव नहीं था तब थोड़ी-बहुत लेखकों और शिक्षकों की प्रतिष्ठा भी थी; परंतु अब तो आपकी प्रतिष्ठा आपके भवन और आपकी कार से तय की जाती है। 

यह कोई संयोग नहीं है कि हिंदी के ज़्यादातर अध्यापक हिंदी के लेखक बन जाते हैं, आधे से ज़्यादा तो मजबूरी में बनते हैं; क्योंकि एपीआई स्कोर और प्रोफ़ेसरी के लिए किताब की ज़रूरत होती है। प्रोफ़ेसर जी के लिए किताबों की अनिवार्यता ख़त्म हो जाए तो शायद ढेर सारे प्रकाशन-संस्थान बंद करने पड़ें। 

कुल मिलाकर हिंदी की दुनिया इसी ढंग से संचालित होती है। जो हिंदी के नीति-निर्माता और भविष्य-निर्माता हैं, वे भी यही चाहते हैं। उदाहरण के लिए प्राध्यापकों की सबसे बड़ी परीक्षा UGC नेट में पहले व्याख्यात्मक प्रश्न हुआ करते थे, छात्रों को लिखना पड़ता था; कामचलाऊ ही सही पर भाषा सीखनी पड़ती थी, अब वैकल्पिक प्रश्नों पर बस टिक लगाना होता है। हर साल पीएचडी में एडमिशन लेने ऐसे-ऐसे जेआरएफ़ पास लोग आते हैं कि उनके बारे में चुप रहना ही अच्छा होगा। अब तो धीरे-धीरे हिंदी विभागों में भी ऐसा माहौल बनने लगा है कि अगर आप भाषिक शुद्धता की बात करेंगे तो लोग पीछे से ये कहेंगे कि ये भाषा-विज्ञान वाले हैं, पता नहीं क्यों हिंदी साहित्य में आ गए हैं?

बाक़ी हिंदी के बड़े लेखकों का भी कितना सम्मान है, ये हम सुरेंद्र वर्मा से लेकर विनोद कुमार शुक्ल तक के प्रसंग में देख ही चुके हैं।

'बेला' की नई पोस्ट्स पाने के लिए हमें सब्सक्राइब कीजिए

Incorrect email address

कृपया अधिसूचना से संबंधित जानकारी की जाँच करें

आपके सब्सक्राइब के लिए धन्यवाद

हम आपसे शीघ्र ही जुड़ेंगे

23 मई 2024

बुद्ध की बुद्ध होने की यात्रा को कैसे अनुभव करें?

23 मई 2024

बुद्ध की बुद्ध होने की यात्रा को कैसे अनुभव करें?

“हम तुम्हें न्योत रहे हैं  बुद्ध, हमारे आँगन आ सकोगे…” गौतम बुद्ध को थोड़ा और जानने की एक इच्छा हमेशा रहती है। यह इच्छा तब और पुष्ट होती है, जब असमानता और अन्याय आस-पास दिखता और हम या हमारे लोग उ

15 मई 2024

जेएनयू क्लासरूम के क़िस्से-2

15 मई 2024

जेएनयू क्लासरूम के क़िस्से-2

जेएनयू क्लासरूम के क़िस्सों की यह दूसरी कड़ी है। पहली कड़ी में हमने प्रोफ़ेसर के नाम को यथावत् रखा था और छात्रों के नाम बदल दिए थे। इस कड़ी में प्रोफ़ेसर्स और छात्र दोनों पक्षों के नाम बदले हुए हैं। मैं पु

14 अप्रैल 2024

लोग क्यों पढ़ते हैं अंबेडकर को?

14 अप्रैल 2024

लोग क्यों पढ़ते हैं अंबेडकर को?

यह सन् 2000 की बात है। मैं साकेत कॉलेज, अयोध्या में स्नातक द्वितीय वर्ष का छात्र था। कॉलेज के बग़ल में ही रानोपाली रेलवे क्रॉसिंग के पास चाय की एक दुकान पर कुछ छात्र ‘क़स्बाई अंदाज़’ में आरक्षण को लेकर

07 मई 2024

जब रवींद्रनाथ मिले...

07 मई 2024

जब रवींद्रनाथ मिले...

एक भारतीय मानुष को पहले-पहल रवींद्रनाथ ठाकुर कब मिलते हैं? इस सवाल पर सोचते हुए मुझे राष्ट्रगान ध्यान-याद आता है। अधिकांश भारतीय मनुष्यों का रवींद्रनाथ से प्रथम परिचय राष्ट्रगान के ज़रिए ही होता है, ह

24 मई 2024

पंजाबी कवि सुरजीत पातर को याद करते हुए

24 मई 2024

पंजाबी कवि सुरजीत पातर को याद करते हुए

एक जब तक पंजाबी साहित्य में रुचि बढ़ी, मैं पंजाब से बाहर आ चुका था। किसी भी दूसरे हिंदी-उर्दू वाले की तरह एक लंबे समय के लिए पंजाबी शाइरों से मेरा परिचय पंजाबी-कविता-त्रय (अमृता, शिव और पाश) तक सी

बेला लेटेस्ट

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए